8th Pay Commission : If there is no pay commission then what are the options यदि वेतन आयोग नहीं तो क्‍या हैं विकल्‍प

8th Pay Commission : If there is no pay commission then what are the options यदि वेतन आयोग नहीं तो क्‍या हैं विकल्‍प

8th Pay Commission : If there is no Pay Commission then what are the options यदि वेतन आयोग नहीं तो क्‍या हैं विकल्‍प

एक्रॉयड फॉर्मूले के फायदे

      • सरकारी कामकाज में सुधार आएगा।
      • मेहनती, ईमानदार कर्मचारियों को मिलेगा प्रोत्‍साहन।
      • धूल खाती फाइलों का होगा तेजी से निबटारा।
      • निकम्‍मे कर्मचारियों की पहचान हो सकेगी।
      • अच्‍छे कर्मचारियों का मनोबल बढ़ेगा।

विगत दिनों में केन्‍द्र सरकार द्वारा एक प्रश्‍न के उत्‍तर में लोकसभा में यह बयान दिया गया कि वर्तमान में सरकार के पास 8वें वेतन आयोग के गठन से सम्‍बन्धित कोई भी प्रस्‍ताव विचाराधीन नहीं है।

परफॉर्मेंस लिंक्‍ड इंक्रीमेंट स्‍कीम

सरकार के इस बयान को लेकर विभिन्‍न जानकारों द्वारा कयास लगाए जा रहे हैं। मिडिया में इस बात की चर्चा हो रही है कि केन्‍द्र सरकार अब कर्मचारियों के परफॉरमेंस के आधार पर सैलरी और प्रमोशन देने पर विचार कर रही है।

आम तौर पर लोगों में यह आम धारणा है कि सरकारी नौकरी मतलब बेफिक्री की नौकरी। मिडिया रिपोर्टों के अनुसार केन्‍द्र सरका अब लोगों के इस सोच को बदलने की तैयारी कर रही है। मिडिया के हलकों में यह भी चर्चा है कि आने वाले समय में केन्‍द्र सरकार परफॉर्मेंस लिंक्‍ड इंक्रीमेंट स्‍कीम लागू करने पर विचार कर रही है। अर्थात् आने वाले समय में सरकारी कर्मचारियों को उनके परफॉरमेंस के आधार पर सैलरी और प्रमोशन का लाभ प्रदान किया जाएगा। पढ़ें: 8th Pay Commission: Automatic Pay Revision System (APRS) – Central Govt. is preparing to bring new formula to increase salary of the employees.

महंगाई भत्‍ता

अपने बयान में सरकार ने यह भी कहा है कि केन्‍द्रीय कर्मचारियों एवं पेंशनभोगियों को महंगाई के असर को कम करने के लिए महंगाई भत्‍ता एवं महंगाई राहत मिलती है। साथ ही सरकार ने यह भी कहा है कि ये महंगाई भत्‍ता एवं महंगाई राहत पहले की तरह आगे भी मिलता रहेगा।

Read also |  Constitution of 8th Pay Commission/ आठवें वेतन आयोग का गठन : Statement of Central Government in Loksabha

नये स्‍कीम का दायरा

फिलहाल यदि केन्‍द्र सरकार परफॉर्मेंस लिंक्‍ड इंक्रीमेंट स्‍कीम पर आगे काम करती है तो इसके दायरे में केन्‍द्र सरकार के 48 लाख से अधिक केन्‍द्रीय कर्मचारी आएंगे।

वेतन आयोग का गठन

अब तक कुल सात वेतन आयोग आ चुके हैं जिनके गठन की तिथि निम्‍न प्रकार है

वेतन आयोगअध्‍यक्षगठन हुआलागू हुआ
पहलाश्री श्रीनिवासा वारादाचरियरजनवरी 1946मई 1947
दूसराश्री जगन्‍नाथ दासअगस्‍त 19571959
तीसराश्री रघुबर दयालअप्रैल 1970मार्च 1973
चौथाश्री पी एन सिंघलजून 19831 जनवरी 1986
पाँचवांश्री एस रत्‍नावल पांडियन9 अप्रैल 19941 जनवरी 1996
छठाश्री बी एन श्रीकृष्‍णाजुलाई 20061 जनवरी 2006
सातवांश्री अशोक कुमार माथुर25 सितम्‍बर 20131 जनवरी 2016

कब होता है वेतन आयोग का गठन

वेतन आयोग का गठन प्रत्‍येक 10 साल में होता है। वर्तमान में 8वां वेतन आयोग 2026 में प्रस्‍तावित है। उपरोक्‍त टेबल से यह स्‍पष्‍ट है कि यदि 2026 में वेतन आयोग का लाभ प्रदान करना तो इसकी तैयारी काफी पहले ही करनी होगी। पढ़ें: Constitution of 8th Pay Commission/ आठवें वेतन आयोग का गठन : Statement of Central Government in Loksabha

क्‍या है सरकार की तैयारी

मिडिया रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल तो सरकार परफॉर्मेंस लिंक्‍ड इंक्रीमेंट स्‍कीम की तैयारी करती ही दिख रही है क्‍योंकि सरकार एक तय सीमा तक डीए में बढ़ोत्‍तरी के बाद ऑटोमैटिक पे रीविजन का ड्राफ्ट बनाने की तैयारी कर रही है ताकि समय समय पर पे मैट्रिक्‍स के आधार पर अच्‍छे कर्मचारियों को प्रोत्‍साहित किया जा सके।

Read also |  Central Government pensioners – Total numbers & Expenditure during the financial year 2021-22  केन्द्र सरकार के पेंशनभोगियों की कुल संख्या और वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान हुआ कुल व्यय

किसका विचार

पूर्व वित्‍त मंत्री स्‍व० अरूण जेटली जी ने कर्मचारियों को परफॉर्मेंस के आधार पर उनकी सैलरी में बढ़ोत्‍तरी करने का सुझाव दिया था। इस फॉर्मुले को एक्रॉयड फॉर्मूले का नाम दिया गया है।

क्‍या हैं एक्रॉयड फॉर्मुले के फायदे

इसका मकसद है छोटे पद के कर्मचारियों के वेतन में भी सम्‍मानजनक अच्‍छी बढ़ोत्‍तरी करना है। विदित हो कि मौजूदा सैलरी सिस्‍टम में कम सैलरी के बजाय ज्‍यादा सैलरी वाले कर्मचारियों को ज्‍यादा फायदा मिलता है। अगर हम एक्रॉयड फार्मूले की बात करें तो इससे सबसे बड़ा फायदा ये मिलेगा कि इससे सरकारी कामकाज में सुधार आएगा। मेहनती और काम के प्रति ईमानदार कर्मचारियों को इससे प्रोत्‍साहन मिलेगा। लम्बित फाईलों का तेजी से निबटारा होगा। काम में बहाने बनाने वाले कर्मचारियों की पहचान हो सकेगी। जिम्‍मेदारी से काम करने वाले कर्मचारियों का हौसला और मनोबल बढ़ेगा। सरकारी कार्यालयों में लेट लतीफी से आने का चलन कम हो जाएगा। साथ ही इससे लाल फीताशाही कल्‍चर में भी कमी आएगी। पढ़ें: 8th Central Pay Commission (8th CPC) – Review of salary/allowances/pension of Central Government employees/pensioners – Central Government official statement आठवें केंद्रीय वेतन आयोग (8वॉं सीपीसी) – केंद्र सरकार के कर्मचारियों/पेंशनभोगियों के वेतन/भत्तों/पेंशन की समीक्षा – केन्द्र सरकार का आधिकारिक बयान

Read also |  Defence related Industrial Establishment रक्षा क्षेत्र से संबंधित औदयोगिक प्रतिष्ठान: All the employees of OFB (Group A, B & C) would be transferred to DPSU on Deemed Deputation

हालांकि केन्‍द्र सरकार के पूर्व नौकरशाहों एवं विभिन्‍न कर्मचारी संगठनों के नेताओं का यह मानना है कि सरकार द्वारा संसद में 8वें वेतन आयोग के सम्‍बन्‍ध में दिया गया बयान एक तकनीकि बयान भर है। इससे इस बात का अन्‍दाजा नहीं लगाया जा सकता है कि सरकार ने 8वां वेतन आयोग के स्‍थान पर नये फार्मूले पर विचार कर रही है। क्‍योंकि 8वां वेतन आयोग 1 जनवरी 2026 से लागू होना है जिसके तैयारी के लिए अभी काफी समय शेष है। जानकारों का यह भी मानना है कि सरकार वर्ष 2024 तक 8वां वेतन आयोग के गठन की घोषणा कर सकती है।

8th-pay-commission-if-there-is-no-pay-commission-then-what-are-the-options

COMMENTS